Home राष्ट्रीय दिल्ली के सातों सीट पर आम आदमी पार्टी ही भाजपा को हरा...

दिल्ली के सातों सीट पर आम आदमी पार्टी ही भाजपा को हरा सकती है: आतिशी

1
3
views

नई दिल्ली, Khabar Adda :- लोकसभा चुनाव में जीत सुनिश्चित करने के उद्देश्य से ओखला विधानसभा में आम आदमी पार्टी ने शनिवार और रविवार को मेगा डोर टू डोर अभियान चलाया। पूर्वी दिल्ली लोकसभा प्रभारी आतिशी के नेतृत्व में AAP कार्यकर्ताओं ने शनिवार को बटला हाउस, ज़ाकिर नगर, जोगाबाई और रविवार को शाहीन बाग, अबुल फ़ज़ल, ओखला विहार में घर-घर जाकर प्रचार अभियान चलाया। पूरे विधान सभा के 500 कार्यकर्ताओं ने छोटी छोटी टीमें बनाकर अलग अलग इलाकों में महज 2 दिन में 7,500 परिवारों तक अपना संदेश पहुंचाया।

आतिशी ने जनता से सीधा संवाद किया। उन्होंने कहा, 2019 में भाजपा को हराना देश के संविधान और उसके मुल्यों की रक्षा के लिए जरूरी है। भाजपा की सरकार ने दिल्ली और देश में विकास का माहौल खराब करने की हर कोशिश की, चाहे वो सीलिंग हो, नोटबंदी, GST या उनकी विभाजन की राजनीति हो। आज की सबसे बड़ी जरूरत है की भाजपा को आनेवाले चुनाव में हरा कर देश का संविधान, लोकतंत्र, अर्थव्यवस्था, सुखशांति को बचाया जाए। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमित शाह के 5 साल के बूरे दौर से मुक्ति के लिए इस बार दिल्ली में AAP को वोट करना ही एक मात्र विकल्प है। सातों सीटें अगर AAP जीत जाए तो भाजपा सत्ता से 7 सीटें दूर रहेगी।

कल कोलकाता में यूनाइटेड इंडिया रैली में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने मोदी-शाह को विभाजन की राजनीति का पुरोधा बताया था। उन्होंने देश को तोड़ने और लोकतंत्र के मुल्यों को कुचलने के लिए मोदी को जिम्मेदार बताया और हर हाल में 2019 में देश से इन्हें हराने की अपील की थी। आम आदमी पार्टी इस मिशन को पूरा करने के लिए प्रतिबद्ध है और हमें उम्मीद है दिल्ली की जनता सातों लोकसभा सीटों पर AAP को जिताएगी।

शनिवार और रविवार को इस अभियान को चलाने का फायदा ये रहा की ज्यादातर घरों के अधिकतर सदस्यों से कार्यकर्ताओं की बात हो पाई। दिल्ली सरकार की शिक्षा सलाहकार रह चुकी आतिशी ने दोनो ही दिन सैंकड़ो क्षेत्रवासियों के साथ पदयात्रा की और जनता को दिल्ली सरकार ने शिक्षा, स्वास्थ्य, बिजली और पानी जैसे विषयों में किये बेहतरीन काम के बारे में बताया। ओखला में दिल्ली सरकार ने खोले नए स्कूल ऑफ एक्सलेंस और पुराने स्कूल के नवनिर्मित बिल्डिंग देख कर अब अभिभावक अपने बच्चों को सरकारी स्कूलों में पढ़ाने चाहते है।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY